गौतम अज्ञानी

अदले-बदले

अरे ओ बदलाव के वाहक, खेल रहे जो अदले-बदले, छन भर में बदल जाते हो ऐसे, की जैसे, गिरगिट अपना रंग बदले, बदलाव की इस कड़ी में, तुमने अपना निजाम बदले, ओ बदलाव के वाहक, क्या मिला तुम्हे इसके बदले?क्या निजाम के काम बदले ? नही! उसने केवल नाम बदले, मुल्लो के अल्लाह बदले, हिन्दुओ …

अदले-बदले Read More »

“नूतन-पुरातन”

​नूतन और पुरातन , के झंझट मे, आखिर क्या नवीन है, इसकी पहचान करने में, शायद तू प्रवीण है, अरी ओ नादान सुनो, कुछ भी नया नहीं है यहां, हर चीज पुरानी है, हर कोई हर पल, पुराना होता जाता है, वक्त आता है, वक्त बीत जाता है, और वक्त के साथ, सब हो जाता …

“नूतन-पुरातन” Read More »

“ट्राम_की_सवारी”

टन-टन-टन-टन-टन खड़े-खड़े चाचा मार रहे घण्टी, चल रही छोटी रेलगाड़ी हन-हन, सामने बैठी हैं मोटी अंटी, पकड़ी हुई है तेज रफ्तार, हम भी हैं उसमें सवार, तभी चाचा ने ब्रेक है मारी, हुए अचंभित सभी सवारी, दे रहें हैं किसीको गारी, अबे हट, दिखता नहीं है, क्या तुझे गाड़ी चलाने का होश है, रगड़ दूंगा …

“ट्राम_की_सवारी” Read More »

करुणा / साहित्य शास्त्र / रामचन्द्र शुक्ल

जब बच्चे को संबंधज्ञान कुछ कुछ होने लगता है तभी दु:ख के उस भेद की नींव पड़ जाती है जिसे करुणा कहते हैं। बच्चा पहले परखता है कि जैसे हम हैं वैसे ही ये और प्राणी भी हैं और बिना किसी विवेचना क्रम के स्वाभाविक प्रवृत्ति द्वारा, वह अपने अनुभवों का आरोप दूसरे प्राणियों पर …

करुणा / साहित्य शास्त्र / रामचन्द्र शुक्ल Read More »

ढलान

उम्र जब ढलने लगती है, शुष्क हो जाती हैं नज़रें, मद्धम होने लगते हैं नज़ारे, हम अपनी जिविनि नैया, खीच लाते हैं किनारे, ढूंढने लगते हैं,  पुनः बिछड़े सहारे, ढूंढते हैं कोई आस, की जब कोई ना हो पास, ढूंढते हैं उन रिश्तों को, की जिनमे कमी ढूंढा करते थे, मगर वो नही मिलते, की …

ढलान Read More »

कुछ बेतुके प्रश्न

सत्य क्या है? कहाँ है? जो मिथ्या नही है, या जहाँ मिथ्या नही है, तो क्या, सत्य का वजूद, मिथ्या के आसरे है। रौशनी क्या है, कहाँ है, जो अंधेरा नही है, जहाँ अंधकार नही है, तो क्या ! रौशनी का वजूद, अंधकार के भरोसे है। ज्ञान क्या है? कहाँ है? एक मष्तिस्क की परिकल्पना, …

कुछ बेतुके प्रश्न Read More »

Poem in Hindi | जन_गण_मन_अधिनायक_जय_हे

अहो कविवर, अहो गुरुवर ज्ञान-विज्ञान के तरुवर कहाँ हो तुम तुम्हारा जन गण मन आज सचमुच राष्ट्रगान हो गया है आज सचमुच अधिनायक की जय है समझता खुद को अविजित अजय है आज फिर लोक को तंत्र से भय है सत्ता को सत्य पर संशय है निशा जगमग दिवस अंधकारमय है तेरे जन गण मन  …

Poem in Hindi | जन_गण_मन_अधिनायक_जय_हे Read More »

buddha-dordenm

प्रार्थना: बुद्धम शरणम गच्छामी

हर किसी के दिल में प्यार रहे ना कहीं कोई हथियार रहे ना कोई किसी से युद्ध करे, प्रगति पथ ना अवरुद्ध करे बस इतनी सी कृपा बुद्ध करेसब सत्य अहिंसा अपनावें ना किसी को मारे,ना कोई मरे कोई सच के संगति ना छोड़ें हो सब मिथ्या के विरुद्ध खड़े बस इतनी सी कृपा बुद्ध …

प्रार्थना: बुद्धम शरणम गच्छामी Read More »

garmi ki basaat

poem hindi | गर्मी की बरसात

आज जब मुद्दतो बाद जब घटा गहराने लगी तो हवा को को आया तैश हो प्रचंड शक्तियों से लैश मेघो को उड़ाने लगी उड़ने लगे टालियों पर बिथरी सूखने को चड्डी बनियान उड़े कई चिड़ियों के घोंसले गिरे, टूटे कई अंडे,  निकले अजन्मे प्राण खैर उन टूटे अंडों की  कौन चिंता करता है रोज टूटते …

poem hindi | गर्मी की बरसात Read More »

dost mera

Hindi Poem | ​दोस्त मेरा

वो सच्चा दोस्त मेरा मुझमे जो कमी ढूंढे है पूरा सूख चुका आँखों का जो ये दरिया वो सच्चा दोस्त मेरा,जो आँखों में नमी ढूंढे वो जो हर वक्त मेरा अपनों से ख्याल रखे मेरे सारे यादो और वादों को दिल में जो संभाल रखे होके वेपरवाह कही उड़ता फिरूँ खा के धोखा अगर मैं गिरूँ …

Hindi Poem | ​दोस्त मेरा Read More »